अच्छे पैरेंटिंग के लिए अपनाये इन आदतों को

            माता – पिता  का रोल बच्चो की ज़िन्दगी में अहम होता है जो बातें वे बच्चो को सिखाते है वह हमेशा उनके जहन में रहती है ,पेरेंट्स   को बच्चो की अच्छी परवरिश पर हमेशा ध्यान देना चाहिए  parenting

     parenting बच्चो की ज़िन्दगी में बहुत अहम रोल रखती है  माता पिता बच्चो को दुनिया देखने की जो नज़र देते है ,वह उनके साथ हमेशा रहती है l बच्चे किस तरह बर्ताव करते है और किस तरह वे दुसरो को समझ पाते है यह अच्छी parenting पर ही निर्भर करता है पेरेंट्स भले ही अपने जीवन में कितने ही तनाव से क्यों न गुज़र रहे हो , यह ज़रूरी है की वह इसका असर बच्चो पर न पड़ने दे

बच्चो पर हमेशा सम्मान दे

अगर बच्चो से सम्मान पाना है तो यह ज़रूरी है की आप भी उन्हें सम्मान देl आप जेसे अपने बड़ो या अन्य व्यक्ति के साथ पेश आते है ठीक उसी तरह अपने बच्चो से भी शांती से बात करे उनके साथ विनम्र हो कर बात करे, क्योकि यह स्वाभाविक है की बच्चा आपको जिस अंदाज़ में कहते सुनेगा वो भी उसी अंदाज़ को दोहराएगा ,हमेशा उनकी राय को महत्त्व दे l जब भी संभव हो उन्हें खुश करने की पूरी कोशिश करे जैसा बरताव माता पिता बच्चो से करते है बच्चे वेसा ही व्यवहार दुसरो से करते है l

चयन की आज़ादी दे

हर माता पिता को यह चिंता होती है की उनका बच्चा कहा है , किसके साथ है और क्या कर रहा हैl इतनी बात जानने के साथ ही आपको बच्चो को उनकी आज़ादी देना बहुतज़रूरी है उन्हें अपने चुनाव के लिए आज़ादी मिलनी ही चाहिए l

बड़े होते बच्चो को समझे

जब बच्चे छोटे होते है तो उनका बर्ताव अलग होता है और जब वे 9-10 साल की उम्र पार कर लेते है तो उनका व्यवहार पूरी तरह बदल जाता है lपहले जिन चीजों में वे रूचि लेते थे आगे चलकर उन्ही चीजों रूचि कम हो जाती है उनकी कुछ समस्या भी हो सकती है जिन्हें समझने की ज़रूरत है l

शिक्षक की बात सुने

बहुत से माता पिता बच्चो के स्कूल में उनकी परफॉरमेंस पर चर्चा के लिए जाते है लेकिन वे अपने बच्चो की कमियों के बारे में सुनने का मन नही रखते है l वे चाहते है की उनके बच्चे की अच्छी बाते ही सुनने को मिले  और यही वे गलती करते है अभिभावकों को यहाँ चाहिए की वे बच्चो की कमजोरियों का पता करे और उन्हें सुधरने की तरफ ध्यान दे l माता पिता के बाद बच्चे शिक्षको के संपर्क में ज्यादा समय गुज़रते है इसलिए शिक्षको की बात  को महत्त्व देना चाहिए l

बच्चो को सिखाये

जो करोगे वही अहम् सबक है अपने बच्चो को सिखाये की जितनी शिद्दत से वे प्रयास करेंगे उतना ही बेहतर नतीजा मिलेगा  उन्हें बताये की कितनी भी बेहतर  या बुरी स्तिथि क्यों न हो वे कोशिश करके उसमे सुधर ला सकते है उन्हें कहे की किसी भी बुरी चीज़ पर टिप्पनी करने की बजाये उसे सुधरने का ज़िम्मा उठाये l उन्हें अपनी तरफ से प्रयास करना सिखाये , जिंदगी में आगे बढ़ना सिखाये